Featured

First blog post

This is the post excerpt.

Advertisements

This is your very first post. Click the Edit link to modify or delete it, or start a new post. If you like, use this post to tell readers why you started this blog and what you plan to do with it.

post Hi,dosto mera naam,Raj kumar yadav hai.

Maine is blog ko specially poem ,gazal,sher aur shayri ke banaaya hai.

Is blog pe apni original rachna ko post karunga.

Aur jo bhi cheez iss publish hogi wo mere dimaag ki upaj hogi,

Mujhe bas is kaam mein aaplogo kaa sahyog chahie,

Aur haa is blog pe mein bhojpuri literature aur bhojpuri ko inter ki bhasha banwaane ka prayas kiya jaayega.

Iske lie main is bhojpuri ka lok geet,kavita aur story ko share karungaa.

Main bhojpuri specially fizi aur माॅरिशस के लोगों के लिए लिखूँगा.

अत: इसमे फिजी और माॅरिशस के लोगो का सहयोग का दरकार है.

एक छोटी शुरुआत हैं

जिंदगी दो पल की बरसात हैं

कुछ आप कहिए,कुछ हम कहें

बाकी बची जो बात हैं.

यूं ही कट जाएगा सफर साथ चलने से,

मंजिल आएगी नजर साथ चलने से.

आवारापन

इन इंसानों को ये हुआ क्या?

इनको कभी अकल नहीं आया.

अपने मौत का जुटाते है खुद सामान

वायु जहर घोलते है छोड़ पड़का,

मर जाता है पड़ोस का कोई दिल का मरीज

बहरे कर अपना कान खूब य् है चिल्लाता.
धरती बिषाक्त हो रही है इसके स्वार्थ से,

अपने फयदे के लिए अधिक उर्वरक है डालता

जरुरतें इसकी दानवी है,कभी ओराती नहीं

इस प्रॊंग में याद आती है अगाथा.
सिनेमा भी फूहड़ इनका गीत भी

अच्छी बातें का कहीं नहीं नामोनिशां
अपने इंसानियत की कुर्बानी दे कर

खूब लूटता मजा अपनी जिंदगी का
कयामत ढहेगी,भूला जाएगा आवारपन

वजूद न होगा इनका जब अपना…

मेरी जिंदगी के किताब का पन्ना पन्ना यादगार बन गया है

मेरी जिंदगी के किताब का पन्ना पन्ना यादगार बन गया है

स्याही के रंगों से रंग कर जीवन सदाबहार बन गया है.
बीच बाजार में उम्मीदों का किला है,

खिजा़ओं में भी इक फूल खिला है.

कैसे भुलूं मैं उस वक्त का फैसला

जब टूटकर बुलंद हुआ था हौसला.

मेरी जिंदगी के किताब का पन्ना पन्ना यादगार बन गया है

स्याही के रंगों से रंग कर जीवन सदाबहार बन गया है

दीप जला है जब जब घर में,

आशाओं का घर बना है अंबर में.

बदला वक्त है मेरा इस कदर से

गम दफा हूए सारे है मेरे दर से.

मेरी जिंदगी के किताब का पन्ना पन्ना यादगार बन गया है

स्याही के रंगों से रंग कर जीवन सदाबहार बन गया है

चलो,दशहरा का मेला घूम आए

मन थक चुका है ,

ख्याल रूका रूका है,

चलो,दशहरा का मेला घूम आए.
माई की बड़ी बड़ी प्रतिमा देखे,

 और साथ में मोनू-सोनू को लेके.

चलो, दशहरा का मेला घूम आए.
गोलगप्पे की खटास का मजा ले,

ठंडी कुल्फी की मिठास का मजा ले.


चलो,दशहरा का मेला घूम आए.
मौत की कुआँ को देख देख के,

गुब्बारा  को पास रख रख के.

चलो,दशहरा का मेला घूम आए.

मां,ओ मां


माँ, तुम मेरे मन में ही घर बनाओ ना,

भटक रहा हूँ मैं ,मुझे राह दिखाओ ना.

पूरा शहर है आज भक्ति में डूबा ,

पर सब के मन में है धुआँ धुआँ.
मां, ओ मां तुम धरती से पाप मिटाओ ना,

मां,ओ मां तुम मन में प्रेम की नदी बहाओ.
कुछ बेचैनी सी है सब के मन मंदिर में,

कुछ ना कुछ लिखा ही है सबके हाथो के लकीर में.

मां, ओ मां सबको सत का पाठ पढ़ाओ ना,

माँ, तुम मेरे मन में ही घर बनाओ ना,

भटक रहा हूँ मैं ,मुझे राह दिखाओ ना.

पूरा शहर है आज भक्ति में डूबा ,

पर सब के मन में है धुआँ धुआँ.

मां, ओ मां तुम धरती से पाप मिटाओ ना,

मां,ओ मां तुम मन में प्रेम की नदी बहाओ

हर नवरात्री में तुम मां अलग अलग रुप मे आती हो,

सबकी मन की सुनती हो, सबका आसरा पूराती हो.

मां, ओ मां मेरे  मन की मुरादें भी मुकम्मल बनाओ 

ना,

माँ, तुम मेरे मन में ही घर बनाओ ना,

भटक रहा हूँ मैं ,मुझे राह दिखाओ ना.

पूरा शहर है आज भक्ति में डूबा ,

पर सब के मन में है धुआँ धुआँ.

मां, ओ मां तुम धरती से पाप मिटाओ ना,

मां,ओ मां तुम मन में प्रेम की नदी बहाओ

शाहरुख-काजोल को देखकर


भोर हुआ दिन और रात के मिलन का बेड़ा था

दिन ने रात से कहा

हम तुम विपरीत गुण वाले

मेरे हिस्से में सूर्य है,तुम हो चांद वाले

मेरा मतलब उजाला,तेरा मतलब अंधेरा

न उजाला मेरा है,न अंधेरा तेरा

तब रात ने धीरे से फुसफुसायी

ओ दिन!क्या तुझे हुआ है आज

ठीक न लगता तेरा मिजाज

दिन ने अपना दुखड़ा रोया

चाँद चकोर को देखकर,शाहरुख काजोल को देखकर


मुझे कुछ कुछ होता है.

तुझे पाने के लिए मेरा हृदय रोता है

वर्षों तक काम किया,अब तो मिलो

मैं भी छुट्टी ले लेता हूँ,तुुम भी छुट्टी ले लो.


लेकिन ये होगा कैसे?रात से तपाक से बोली

अपने बातों की पोटली धड़ाक से खोली.

सूरज दादा आयेंगे,तब मेरा अस्तित्व नहीं रहेगा

जब जायेंगे तो तेरा अस्तित्व नहीं रहेगाा.

जब तुम हो तो मै नहीं

मैं हुँ तो तुम नहीं

कभी गेट के अंदर घुसने नहीं देते थे गार्ड, आज इस बिहारी एक्टर की फिल्म पहुंची ऑस्कर

कभी गेट के अंदर घुसने नहीं देते थे गार्ड, आज इस बिहारी एक्टर की फिल्म पहुंची ऑस्कर http://ucnews.ucweb.com/story/50162209464751?channel_id=302&host=http:%2F%2Fucnews.ucweb.com&list_article_from=LiveBihar&item_type=0&content_type=0&app=browser_iflow&uc_param_str=dnvebichfrmintcpwidsudsvpfmt&ver=10.9.8.1006&sver=inapppatch&demote_type=normal&adapter=&grab_time=2017-09-27_12.34.06&lang=hindi&reco_id=b5b76051-9ec0-492c-ace9-cd3784383974&ucnews_rt=kCategory&entry=browser&entry1=shareback — shared by UC Mini